Saturday, 2 November 2013

*****शुभ दीपावली *****

                                  चित्र गूगल से साभार 
डॉ. ज्योत्स्ना शर्मा 

तिमिर घना हो भले,तारों की ज़रा न चले ,
सूझे नहीं पथ तो......दिए सा जल जाएँगें  |
भाव कटु दूर करें.........जीवन में रस भरें ,
बोंएँ बीज प्रीत के..........मधुर फल पाएँगें |
लालसा है लेने की जो,देना भी तो सीख लेना ,
ध्यान धरें चरण...........विघन टल जाएँगें |
हृदय की है चाह यही......अब उत्साह यही ,
ज्योति कब प्रेम की........गत में जलाएँगें ||

देखिए तो हर ओर........बहुत हुआ है शोर ,
कारा भला तम की.....ये कैसे कट पाएगी |
शुचिता होवे मन की.....पावनता लगन की ,
स्नेह से भरो न दीप........पीर घट जाएगी |
खिली खिली फुलझड़ी.....लेकर जादुई छड़ी,
ये न सोच कोई परी..........तेरे घर आएगी |
खीलों व खिलौनों की मिठास आसपास बाँट,
सदय हो समृद्धि.........सब संग मुस्काएगी ||

~~~~~~~~~~*********~~~~~~~~~~~~~

19 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपको और आपके पूरे परिवार को दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    स्वस्थ रहो।
    प्रसन्न रहो हमेशा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहमयी उपस्थिति के लिए हृदय से आभार |
      सादर !

      Delete
  2. आपकी यह पोस्ट आज के (०२ नवम्बर, २०१३) ब्लॉग बुलेटिन - ये यादें......दिवाली या दिवाला ? पर प्रस्तुत की जा रही है | बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहमयी उपस्थिति के लिए हृदय से आभार |
      सादर !

      Delete
  3. दिवाली की बहुत बहुत शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहमयी उपस्थिति के लिए हृदय से आभार |
      सादर !

      Delete
  4. बहुत सुंदर !!
    दीपावली कि हार्दिक शुभकामना !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहमयी उपस्थिति के लिए हृदय से आभार |
      सादर !

      Delete
  5. बहुत सुंदर !!
    दीपावली कि हार्दिक शुभकामना !!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (03-11-2013) "बरस रहा है नूर" : चर्चामंच : चर्चा अंक : 1418 पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    प्रकाशोत्सव दीपावली की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहमयी उपस्थिति के लिए हृदय से आभार |
      सादर !

      Delete
  7. बहुत सुंदर दीपोत्सव शुभ हो !

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहमयी उपस्थिति के लिए हृदय से आभार |
      सादर !

      Delete
  8. स्नेह हो तो पीर मिट ही जाती है ... सार्थक भाव लिए सुन्दर रचना ...
    दीपावली के पावन पर्व की बधाई ओर शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहमयी उपस्थिति के लिए हृदय से आभार |
      सादर !

      Delete
  9. बहुत सुन्दर. दीपोत्सव की मंगलकामनाएँ !!
    नई पोस्ट : कुछ भी पास नहीं है
    नई पोस्ट : दीप एक : रंग अनेक

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहमयी उपस्थिति के लिए हृदय से आभार |
      सादर !

      Delete
  10. वाह!!! बहुत सुंदर !!!!!
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई--

    उजाले पर्व की उजली शुभकामनाएं-----
    आंगन में सुखों के अनन्त दीपक जगमगाते रहें------

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहमयी उपस्थिति के लिए हृदय से आभार |
      सादर !

      Delete