Saturday, 24 May 2014

पाँच रंग !





                                                           चित्र गूगल से साभार


डॉ. ज्योत्स्ना शर्मा 
1
लेखनी उद्बोध लिखना और फिर शृंगार भी ,
भक्ति , ममता ,हास भी  हो दर्द का संसार भी ।
तुम उठो ,उठ कर चलो,जब भी समय की माँग पर ;
दोस्ती की जीत लिखना, दुश्मनी की हार भी ।।
2
दोस्ती ,दिल को कुदरत का ईनाम है ,.
एक इनायत ,खुशी से भरा जाम है ।
हम इसे दुश्मनी में बदलने ना दें :
ज़िंदगी में बड़ा ये भी इक काम है ।।
3
जीर्ण चदरिया मन की मीठे बोलों से सिल जानी है 
दृढ़ संकल्पों से विघ्नों की,कठिन शिला हिल जानी है
मरकर भी सुधियों में रह मन,ऐसा काम अमर कर जा
मिट्टी की काया है इक दिन, मिट्टी में मिल जानी है ।।
4
नेकी मन से ना बिसराना ,सबसे बड़ी इबादत है ,
दीन,दुखी पर दया दिखाना,सबसे बड़ी इबादत है ।
जन्म दिया है जिसने हमको,धन-धान्य से बड़ा किया ;
उनकी खातिर जान लुटाना, सबसे बड़ी इबादत है ।।
5
काम,क्रोध जब हृदय बसे तो खुशियों का संसार गया ,
कुटिल द्वेष का सर्प विषैला जीते जी बस मार गया ।
जान लिया है लोभ,मोह की वैतरणी है यह जीवन ;
दया,धर्म का लिये सहारा ,जो डूबा वो पार गया ।।

-0-

2 comments:

  1. हर रंग लाजवाब. जीवन के विविध रंगों को बखूबी दर्शाया है आपने इन पांच रंगों में. हर रंग कुछ कहते नज़र आते हैं. हार्दिक बधाई....

    ReplyDelete