Tuesday, 2 October 2012

दिशा -दिशा हो धवल (कुण्डलियाँ)


दिशा -दिशा हो धवल (कुण्डलियाँ)
डॉ ज्योत्स्ना शर्मा
1

नारी ही जब बोलकर ,अपना मोल लगाय  ।
बेदर्दी  बाजार में बिना मोल बिक जाय॥
बिना मोल बिक जाय ,घटे मर्यादा ऐसे ।
हो पूनम का चाँद, गहन में विपदा जैसे ॥
पाए अपना मान , चाँद फिर चमके भारी ।
तज मर्यादा चैन, कभी  क्या  पाए नारी ?
2
दानी बन सब कुछ दिया ,जल,भू भेंट अपार ,
पवन,पुष्प ,धन-धान्य से ,सुखी रहे संसार |
सुखी  रहे संसार  ,  मिले जैसे को तैसा ,
मुख मोहक मुसकान , नचाएं नट के जैसा |
कर लें प्रभु स्वीकार ,क्षमा कर सब नादानी ,
देकर मन का दान , बने हैं हम भी दानी ||

3
इक रोटी से हाथ की ,मुँदरी पूछे बात ।
तू क्यों फूली -सी फिरे ,जले सुकोमल गात ॥
जले सुकोमल गात ,अंत निश्चित है तेरा ।
पर छुटकी के थाल, लगाए हँस कर फेरा ॥
दे मुख को मुस्कान ,उम्र तेरी यह छोटी ।
जीवन का सन्देश ,सुनाती है इक रोटी   ॥
4
राजनीति का नीति से ,यूँ रिश्ता अनमोल ।
इक वाणी प्रपंच दिखे ,दूजी बोले तोल ।
दूजी बोले तोल ,करे नित परहित सब का ।
सम दृष्टि समभाव ,रखे है मन में रब का॥
भले करें सब गान ,नीति पावन प्रतीति का
छोडें त्याग-विचार ,गुणीजन राजनीति का ।।
5
भूले से भगवान ने ,मन में किया विचार  
खुद रह कर फिर साथ में ,देखें यह संसार  ।।
 देखें यह संसार ,यहाँ कैसी है माया  
किया भला क्या भेंट ,भक्त ने क्या -क्या पाया ।।
चले उठाने मुकुट ,मुरलिया जब झूले से  
कुछ न आ सका हाथ ,खड़े  हैं अब भूले- से ॥
6
राधा की पायल बनूँ, या बाँसुरिया ,श्याम ,
दोंनों के मन में रहूँ, इच्छा यह  अभिराम ।
इच्छा यह अभिराम ,संग राखें बनवारी ,
दो बाँसुरिया देख , दुखी हों राधा प्यारी ।
हो उनको संताप , मिलेगा सुख बस आधा ,
कान्हा के मन वास , चरण में रख लें राधा ।
7
जीवन में उत्साह से ,सदा रहें भरपूर ,
निर्मलता मन में रहे , रहें कलुष से दूर ।
रहें कलुष से दूर ,दिलों में कमल खिले हों ,
हों खुशियों के हार ,तार से तार मिले हों ।
दिशा-दिशा हो धवल ,धूप आशा की मन में ,
रहें सदा परिपूर्ण ,उमंगित इस जीवन में ।।
-0-

No comments:

Post a Comment